Bank Merge ( बैंको का विलय )


 Bank Merge ( बैंको का विलय )


बैंको का विलय ( Bank Merge )- वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने सरकारी बैंको की बैलेंसशीट मजबूत करने और कर्ज देने की क्षमता बढ़ाने     के लिए 6 सार्वजनिक बैंको का 4 बड़े बैंको में विलय का एलान किया

- इस प्रक्रिया से कुल 10 सार्वजनिक बैंक 4 बड़े बैंको में बदल जाएंगे

- इसके बाद देश में केवल 12 सरकारी बैंक बचेंगे

4 नए बैंक बनेगे

 पंजाब नेशनल बैंक :    पंजाब नेशनल बैंक + ओरिएंटल बैंक ऑफ़ कॉमर्स + यूनाइटेड बैंक ऑफ़ इंडिया

2  केनरा  बैंक :               कनेरा बैंक + सिंडिकेट बैंक

3 यूनाइटेड बैंक ऑफ़ इंडिया  :           यूनाइटेड बैंक ऑफ़ इंडिया + आंध्रा बैंक + कॉर्पोरेशन बैंक

इंडियन बैंक :                 इंडियन बैंक + इलाहाबाद बैंक

 भारत में बैंको का इतिहास 
१ भारत का पहला बैंक , बैंक ऑफ़ हिंदुस्तान था जिसकी स्थापना एलेक्जेंडर एन्ड कम्पनी द्वारा 1770 इ में    कोलकाता में की गई

2  सीमित देयता के आधार पर भारतीयों द्वारा संचलित भारत का प्रथम बैंक अवध कॉमर्सियल बैंक (1881 ) था

3 पूर्ण स्वामित्व वाला भारत का प्रथम बैंक पंजाब नेशनल बैंक था ( 1894 )

4 भारतीये महिला बैंक -
    स्थापना  - 5 अगस्त 2013
    उद्देस्य  -  महिला सशक्तीकरण  बढ़ावा देना
    मुख्यालय  -  नई दिल्ली
   प्रथम चैयरमेन  -  उषा अनन्त सुब्रमण्यम
  - 2016 में भारतीये स्टेट बैंक में विलय

भारतीय  बैंको का  राष्ट्रीकरण -

इम्पीरियल बैंक ऑफ़ इंडिया (1921 ) = बैंक ऑफ़ बंगाल (1806 ) + बैंक ऑफ़ मद्रास (1843) + बैंक ऑफ़ बॉम्बे (1840)

  19 जुलाई 1969 - 50 करोड़ से अधिक जमा पूंजी वाले 14 बैंको का राष्ट्रीकरण किया गया
  15 अप्रैल 1980  - 200 करोड़ से अधिक जमा पूंजी वाले 6 निजी बैंको का राष्ट्रीकरण किया गया
  4 सितम्बर 1993 - नई इंडिया बैंक का विलय पंजाब नेशनल बैंक में

imp -  भारतीय रूपये का प्रतीक चिन्ह है इसकी डिजाइन उदय कुमार ने की
Previous
Next Post »